इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

बुधवार, 17 सितंबर 2014

जो भी हुआ , सरेआम हुआ है




तेरे ही रहे चर्चे पिछले दिनों , सुना बडा नाम हुआ है ,
हथकंडे चलते रहे थे जहां ,अबकि फ़ैसला-ए-अवाम हुआ है ॥


हर रोज़ लिखे जाते हों कानून के नए मसौदे जहां ,
काट दे थानेदार चालान बीवी का , लोगों ने कहा बडा काम हुआ है ॥


सुनो व्हाट्सअप को ही दुनिया मानने समझने वालों ,
आउटडेटेड होकर इन सबका , बस एक सा अंजाम हुआ है ॥


लल्लन चौकीदार के पास भी अब एंड्रॉयड है ,वाई फ़ाई के साथ ,
ससुरा कंप्यूटर बना मोबाइल ,समझिए तो चिनिया बदाम हुआ है ॥


ये वो दौर है, जब बस्तियां जला कर ,वो रौशनी चाहते हैं ,
देखेंगी तबाही,जाने कौन सी नस्लें ,किस्सा कई बार यूं तमाम हुआ है ॥


वो जो कुदरत है , बेपर्दा, बेशर्म , बेगैरत और बेदर्द सी ,
कहर बरपाया कयामत बनके टूटा ,जो भी हुआ , सरेआम हुआ है ॥


देश की राजनीति करवटें बदल रही है अंगडाइयां लेकर ,
तुम देखते जाओ कि देश बदल के दिखाएंगे , अभी तो शुरू काम हुआ है ॥



यार तू तो आया था आगे , लडने लडाई हर आदमी आम की ,
बस उंगलिया उठाते दूसरों पर , धत तू भी अब इक आदमी आम हुआ है ॥




बाज़ार को आदत पड गई थी सीढियों सी चढने की धपाधप ,
कैलकुलेटर में नई बैट्री डली तो, अबे पेट्रोल का भी कम दाम हुआ है ॥



नदी पहाडों और जंगलों के बीच पला बढा  हुआ देश इक ,
दूर हुआ इतना , वो बदले पे उतारू , अब मचा कोहराम हुआ है ॥
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers