इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

रविवार, 26 फ़रवरी 2012

सर्द हवा में जियरा कांपे ..इ फ़ागुन में जोगी कैसे गाएगा जोगीरा रे




दौडती हुई ट्रेन की खिडकी से , मोबाइल द्वारा खींची गई एक फ़ोटो





छुट्टी का दिन , सुहाना मौसम , सो आन पडी इक दुविधा ,
कंप्यूटर तोडें खट खटाखट , या धूप में पढें कहानी कविता ..





अलसाई , अल्हड और चमकीली सी उग आई है भोर ,
फ़ागुन मास होवे मदमस्त ,किंतु इहां तो चले है चिल्ड हवा घनघोर 





जेटली चचा बोले हैं , यूपीए सरकार भूल चुकी है,शासन करने की कला
अबे तो साइनिंग इंडिया से लेकर भारत निरमान तक , घंटा हुआ है भला ..



एनसीटीसी पर पीएम ,मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाएंगे ,
उस बैठकी में का कहना है , मेड्म्म से पूछ के बताएंगे ....



कम नहीं होंगे चुनाव आयोग के अधिकार : अईसा भरोसा दी है सरकार ,
ओहो अच्छा , बहुत अच्छे , अबे आखिर इत्ता काहे छलक रहा है आयोग पे प्यार ..



अबे जौन स्टेट के लिए ई लोग आयोग का मैय्यत निकाला हुआ है ,
ऊ इस्टेट का हेल्थ में ही , अरबों खरबों का घोटाला हुआ है ..



NDTV बता रहा है , काहे टीम इंडिया ,महापिरलय की झेल रहा है मार ,
अबे अभी वक्त है हॉकी का , बंद करो , ई साला रूटीन बकावास है यार  





चैनल का सबसे बडा खबर , दोस्त बने धोनी आ सहवाग ,
बने काहे , अबे जब अच्छे हैं , तो थोडे और लगाओ दाग .....





मुलायम अत्याचारी , माया भ्रष्टाचारी : बोल दिए बाबा अमर ,
अब जाके इनको पता चला , जब बीत गई रे उमर ,...





सर्वोच्च न्यायालय :पुलिस की कार्वाई लोकतंत्र पर प्रहार ,
ई ऑर्डर के बाद , ऊ ऑर्डर का जिम्मा नहीं कोई लेने को तैयार ..





कांग्रेस नहीं तो यूपी में राष्ट्रपति शासन , कोयला मंतरी जी दे दिए बयान ,
सुना है महापिरलय के विशेषज्ञ इसे राग कोयलाबेरी का साईड इफ़्फ़ेक्ट रहे हैं मान ..



आरक्षण की मांग को लेकर 14 जगह ट्रैक जाम करेंगे जाट ,
अबे का पटरी से आरक्षण मिलेगा , काहे कर रहे हो पसिंजर की खडी खाट ..



अभी ठंडी नहीं हुई है कॉमनवेल्थ घोटाले की आंच ,
दिल्ली उपराज्यपाल के खिलाफ़ शुरू हुई सीबीआई की जांच



बीस मिनट में दु सौ खबरें , इंडिया टीभी दिखा रहा है ,
इस हिसाब से साठ मिनट में टोटल केतना का रेशियो आ रहा है ?
  



ई समाचार चैनलवा सब एकसकिलुसिव के चक्कर में का का करता है बेचारा,
आज के फ़ैसला पर रिपोर्टिंग करने ,रामलीला मैदान पहुंची आजतक पत्रकारा



एक ठो नेताजी दिन में बघार बघार के अपना चतुराई का राग का रहे थे ,
पडा जो सोटा पाछे से , कहे हम तो संविधान का प्रावधान बता रहे थे ...



NCTC पर ममता दीदी , घनघोर से, पुरज़ोर की हैं विरोध ,
Nहीं ,Cचलेगा Tरिनमूल Congग्रेस ,फ़ुल फ़ार्म बता दिया लोग  





किरकेट में रोजिन्ना हार की खबर काहे बार बार दिखाते हो ,
हॉकी में आया फ़ार्म में भारत , अबे एक बार नहीं बताते हो ...



चुनाव आयोग नोटिस ले ले के आ भेज भेज के इत्ता बढा दिया दबाव ,
कानून मंतरी बोले ,होगा आचार संहिता उल्लंघन कानून में ही बदलाव ॥



शेषन बाबा ने दी थी आग्नेय दृष्टि , अब उ हो गया है भैंगा ,
रोजिन्ना देता आयोग नोटिस नया , नेताजी रोजे दिखाते ठेंगा ..



 हम जीतेंगें , सरकार बनेंगे , सबके हैं अपने अपने दावे ,
कौन लाएगा काला धन वापस , कौन जनलोकपाल , हाय कोई नहीं बतावे





सहवाग के पीठ में दर्द कल नय खेलेंगे,बता रहा है टीभी वाला है भकलोल रे ,
अबे असली खबर ई है ,भारत दागा सिंगापुर के खिलाफ़ टोटल पंद्रह गोल रे 





बिहार में शिक्षा व्यवस्था , बिल्कुल हो गई है ठीक ,
बस मा स्साब बनने की परीक्षा में पर्चा हो गया लीक ...



 मौसम महीना आया बौराने का , कल से सुरताल में फ़कीरा गाएगा ,
रे फ़ागुन आ गया अंगना मोरे ,कल से जोगी फ़िर , जोगीरा गाएगा ...


रविवार, 12 फ़रवरी 2012

झपकी भी नींद सरीखी लगती है .......









गूगल सर्च इंजन द्वारा लिया गया चित्र , साभार




छोटी सी झपकी भी नींद बडी लगती है , हाय कि अब तो सपने भी नहीं आते ,
जिंदगी ने दायरा इतना कर दिया छोटा , अपने इस दायरे में कई अपने भी नहीं आते .
 
सुनो , जो अब भी न बोले तो , कल सोचेगा ये कि , आज क्यूं ,हम मौन हैं ,
लोकतंतर माने भारत है यदि , और जो हमारे हैं ये प्रतिनिधि तो फ़िर हम कौन हैं
 
तुम्हारे गीतों वो खुमारी कहां है , और बोलो में वो नशा कहां है ,
जाओ ये फ़ैसला तुम्हीं पर छोडा , बता दो , दर्द कहां और दवा कहां है ..
 
तुम देखना कोई न कोई यूं बयान ये भी कर जाएगा ,
अब कोई फ़ांसी नहीं होगी , आएगा जब महाप्रलय , कसाब खुद मर जाएगा 
 
इस देस का लोकतंतर , ससुरा हो गया रंगीला ,
माननीय लोग सदन में देख रहे सिलेमा नीला
 
जल की कमी पर सरकार ने चेताया ,
आ टोटल नदी सबको कूडाघर बनाया 
 
ये जो अब रातों को नींद नहीं आती ,कसूर ये सारा हालात का है ,
आधा दिन कटता नौकरी आधा चाकरी में , वक्त अपने पास बस रात का 
 
यूं न समझना कि रातों में भी हम खामोश बैठे हैं ,
चेत जाएं वो , जो हमारे से होकर भी कुछ ज्यादा ऐठे हैं
 
खुर्शीद बाबू चुनाव आयोग के दोषी दिए गए करार ,
इलेकसन का मौसम है , अबे समझा करो कुछ यार ....
 
दिल्ली में ठंड ने पिछले तीस साल का रिकॉर्ड तोडा ,
चल तू भी जोर आजमा , गरीब को हाय , किसी ने न छोडा ..
 
प्रनब दादा बोले हैं , अभी मुश्किलों से पूरी तरह बाहर नहीं हुआ है देस ,
एकदम्मे ठीक , विश्व के नक्शे से ही बाहर कर दो ,इत्ते लगाओ इसको ठेस
 
राहुल पीएम पद के लिए नहीं हैं लालायित, पिरयंका गांधी फ़रमाई हैं ,
आयं , अबे तो फ़िर काहे के लिए , फ़ुल फ़ैमिली विद मम्मी मैदान में आई हैं ,

चलते चलते एक खुशखबरी भी दे दें आपको

दो दीवाने शहर में , ढूंढते थे एक आशियाना ,
बसेरा हो गया आखिर ,मिल गया अपना ठिकाना

मुद्दतों बाद जाकर , हम भी एक स्थाई पते वाले हो गए जी ........
 
और फ़िर हाल कुछ ऐसा हुआ कि ,

पिछले एक हफ़्ते से घर को बसाने सजाने में गज्ज्ब बैंड बजा है ,
मगर सच मानिए , अपने घर में खटने खटाने का अपना ही मजा है ,

और हम ले भी रहे हैं भरपूर ..आहिस्ता आहिस्ता

गुरुवार, 2 फ़रवरी 2012

बेबाक , बिंदास , बेलौस ,बेसाख्ता सी कुछ बातें ......



बिखरे आखर


ट्विटर सेंसर को तैयार , गूगल ने किया इनकार ,
उपयोग दुन्नो का अईसा करें , रहे टेंसन में सरकार




मेरे इर्द गिर्द रहकर , तुम जो यूं , अपना ये वक्त बर्बाद करोगे ,
मुहब्बत हो जाएगी मुझसे , मेरे जाने के बाद ,बहुत याद करोगे
 
छन्नो मलिक भी स्वयंवर रचाने को हो गईं तैयार ,
रखिया ,ललिया के बाद , देखिए ई किनका फ़ोडेंगी कपार ...
 
टेस्ट में भारत की शर्मनाक हार हो गई तय ,
ले बिल्लैया , अबे अब बचा का है रे , अब काहे का भय 
 
महासचिव राहुल : भ्रष्टाचारी कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा ,
महापालटी कहती है , खबरदार ,जो लूट के नहीं कमाएगा ...
 
शहरों में , सालाना बढ रहा है डेंगू का पिरकोप ,
उधर मच्छर लगा रहे हैं मोर्टीन में मिलावट का आरोप ...
 
भारत को चाहिए युवा नेता ,पिरधान जी फ़रमाए हैं,
इसीलिए पालटी वाले , पैंतालीस का कुंवारा अजोध युवा लाए हैं ...
 
चुनाव आयोग :रिश्वतखोरी के खिलाफ़ अध्यादेश लाए सरकार ,
हायं , ई चुनाव आयोग के मन में आ रहे हैं कैसे कैसे विचार ...
 
राजनीति से संन्यास लेने पर विचार कर रहे हैं शरद पवार ,
बिल्कुल ठीक , किरकेट टीम लडे चुनाव , सरद जी अब किरकेट खेलें यार
 
टेनिस में गौरवान्वित हुए और किरकेट से हुए शर्मसार ,
खेल खेल में फ़ेल हुआ , खेल बना व्यापार , रे देख तेल की धार 
 
दौर हम ये भी देख लेंगे , कि जब कितने ही दौर देख लिए ,
वो सितम पे सितम ढाती रही ज़िंदगी , हमने सितम और , कुछ और देख लिए
 
अबे कहां हो कोसने वालों , मचाओ स्यापा कि , मुद्दे कुछ दफ़न हो गए ,
जो अब भी सोना ही चाहते हो तो तान लो चादर , जगाने के तुमको बहुत अब जतन हो गए ...
 
बहुत मुश्किलों से भी हो कभी तो उस काम में मजा आता है ,
बहुत खूब बजता है अब भी जब ईमानदारी का कोई हथौडा बजाता है .....
 
वो इस कदर आश्वस्त हैं इस बारे में कि ,कभी कुछ नहीं बदलेगा ,
जो न बदला तो मिट जाएगा , या अभी बदलेगा या फ़िर नहीं बदलेगा ..

वसंत ने फ़िर दस्तक दी , हवाओं ने भी मिज़ाज़ बदला है ,
हम भी सोच रहे थे ये मन बौराहा ,यूं बेवजह नहीं मचला है ......

दुनिया और दुनियादारी , बेशक , हम दोनों के लिए खराब हो गए ,
कमबख्त, इतना बिखरे रहे, आखरों के बीच कि किताब हो गए
 
माया के करीबी हैं पॉन्टी , मॉल के बेसमेंट में मिली तिजोरी ,
अबे टोटल हथिया का पेट खोल के देखो ,मिलेगा वहां भी नोट का बोरी ...
 
भ्रष्टाचार के प्रति उच्च न्यायालय का रुख हो रहा है बेहद सख्त ,
भ्रष्टाचार के विरूद्ध विधायिका ,कानून बना के पस्त ,कार्यपालिका कर कर के मस्त ..
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers