प्रचार खिडकी

सोमवार, 18 मई 2020

वो गरीब है, तभी मौत के करीब है
















12 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. आभार दीदी । आपका स्नेह बना रहे अनाम आदमी के लिए ।

      हटाएं
  2. सटीक और सार्थक बातें ... ये अनाम आदमी भी आप ही हैं तो आपकी संवेदनशीलता को नमन ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी मैं इस नाम से लिखता हूँ योर कोट नामक एप्प पर

      हटाएं
  3. अनाम आदमी ने क्या लिख दिया. गज़ब. अनाम आदमी को बधाई.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनाम आदमी ने आपको कहा है शुक्रिया और आभार मित्र

      हटाएं
  4. उफ़ अनाम आदमी तो नाम वाला बन गया है इतनी प्यारी कोटेशन लिखकर .........बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब इतना नामी दोस्त होगा तो कुछ तो असर होगा ही न दोस्त जी

      हटाएं
  5. सारे के सारे लाजवाब ,खूबसूरत ,बेहतरीन ,इस अनाम आदमी को सलाम ,प्रणाम ,मन की कह डाली

    जवाब देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...