इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

शनिवार, 13 नवंबर 2010

दिल्ली ब्लॉगर सम्मेलन की जैसी प्रेस रिलीज मैंने भेजी ......झा जी रिपोर्टिंग सर ...


आज दिनांक १३ नवंबर ,२०१० को दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित , NATIONAL INSTITUE OF NATIONAL AFFAIRS , प्रवासी टुडे के तत्वाधान में हिंदी संसार एवं नुक्कड ( सामूहिक ब्लॉग ) द्वारा आयोजित हिंदी ब्लॉग विमर्श सफ़लतापूर्वक ,संपन्न हुआ । अपराह्न तीन बजे से लेकर पांच बजे तक आयोजित सम्मेलन के मुख्य अथिति , प्रवासी भारतीय कनाडा निवासी प्रमुख ब्लॉगर व साहित्यकार , श्री समीर लाल उर्फ़ उडनतश्तरी ( इनके ब्लॉग का नाम ) थे और विशिष्ट अथिति के रूप में , प्रख्यात व्यंग्यकार श्री प्रेम जनमेजय और विख्यात तकनीक विशेषज्ञ लेखक श्री बालेन्दु दधीच जी ने अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराई । कार्यक्रम के संयोजक की भूमिका जहां विख्यात साहित्यकार अविनाश वाचस्पति ( नुक्कड , सामूहिक ब्लॉग के मॉडरेटर ) ने निभाई तो संचालन का जिम्मा श्री अनिल जोशी जी जो हिंदी संसार एवं अक्षरम से जुडे हैं , ने संभाला । इनके अलावा सुश्री सरोज जी ने भी इस कार्यक्रम के संयोजन में बहुत ही महोत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।इस कार्यक्रम में दिल्ली एवं आसापस के लगभग चालीस ब्लॉगर्स ने शिरकत की तो वहीं विख्यात मीडिया रिसर्च स्कॉलर श्री सुधीर के नेतृत्व में लगभग पच्चीस मीडिया शिक्षार्थियों ने अपनी सक्रिय भागीदारी की । संगोष्ठी में हिस्सा लेने वाले ब्लॉगर्स में , विख्यात कवि एवं साहित्यकार सुश्री सुनीता शानू, डॉ वेद वयथित ,सुरेश यादव , हिंदी अंतर्जाल पर महिलाओं की प्रतिनिधित्व करता नारी सामूहिक ब्लॉग की मॉडरेटर सुश्री रचना , पत्रकार बिरादरी से सुश्री प्रतिभा कुशावाहा और श्री मयंक सक्सेना , के अलावा लगभग चालीस प्रसिद्ध ब्लॉगर्स , जैसे श्री सतीश सक्सेना , डॉ टी एस दराल , श्री अरविंद चतुर्वेदी , श्री एम वर्मा , श्री रतन सिंह शेखावत , श्री पद्म सिंह , श्री नीरज जाट , श्री शाहनवाज सिद्दकी , श्री राजीव एवं संजू तनेजा , श्री तारकेश्वर गिरि , श्री अजय कुमार झा , श्री कनिष्क कश्यप , श्री कौशल मिश्रा , श्री नवीन चंद्र जोशी , श्री मोहिन्द्र कुमार ,, श्री निरमल वैद्य , श्री पंकंज नारायण श्री दीपक बाबा , श्री राम बाबू , श्री अरुण सी रॉय , सुश्री अपूर्वा बजाज के अलावा सुधीर जी की एक शिक्षार्थी सुश्री रिया नागपाल ने जो ब्लॉगिंग पर ही रिसर्च कर रही हैं , ने आभासी परिचय को प्रत्यक्ष अनुभव में बदलते हुए न सिर्फ़ एक दूसरे को जाना बल्कि ब्लॉगजगत के वर्तमान और भविष्य को लेकर आपस में विचार विमर्श भी किया ।


कार्यक्रम का संचालन करते हुए श्री अनिल जोशी ने , पहले तीनों माननीय अतिथियों को पुष्प गुच्छ प्रदान करवाते हुए उनका हार्दिक स्वागत किया । कार्यक्रम के प्रारंभ में , विख्यात मीडियाकर्मी एवं ब्लॉगर श्री खुशदीप सहगल जी के पूज्य पिताजी के हाल हीं हुए निधन पर दुख प्रकट करते हुए एक मिनट का मौन रखा । इसके पश्चात औपचारिक परिचय और संक्षिप्त विचार आदान प्रदान का दौर चला । स्वागत भाषण श्री अविनाश वाचस्पति जी दिया । विशेष रूप से आमंत्रित तकनीक विशेषज्ञ लेखक श्री बालेन्दु दधीच जी ने अपनी बात रखते हुए हिंदी ब्लॉगिंग की वर्तमान स्थिति , रुझान , समस्याएं , संभावानाओं आदि पर खुल कर बोलते हुए न सिर्फ़ ब्लॉगर्स को आंकडों की भाषा में बताया समझाया बल्कि कई बारीकियों को भी साझा किया । माहौल को कवितामय करते हुए उन्होंने ब्लॉगर्स और ब्लॉगिंग पर करारी चुटकी लेते हुए एक कविता सुनाई जिसका रसास्वादन सभी ने उठाया । बीच में बीच में अल्पाहार और चाय कॉफ़ी का दौर भी चलता रहा । प्रख्यात व्यंग्यकार श्री प्रेम जनमेजय ने कहा कि वे इस क्षेत्र में नए हैं इसलिए सबका साथ अपेक्षित है । प्रवासी भारतीय और हिंदी ब्लॉगिंग के सुपर स्टार माने जाने वाले अत्यधिक लोकप्रिय श्री समीर लाल उर्फ़ उडनतश्तरी ने अपने मस्तमौला अंदाज़ में बोलते हुए न सिर्फ़ अपने अनुभव बांटे , बल्कि वहां मौजूद ब्लॉगर्स एवं शिक्षार्थियों के उत्सुक प्रश्नों का उत्तर दिया । सभी इस निष्कर्ष से सहमत थे कि आने वाले समय में हिंदी ब्लॉगिंग एक बडी ताकत के रूप में उभर कर सामने आएगा । इसलिए ब्लॉगिंग करने वाले हर ब्लॉगर को एक जिम्मेदारी का स्वत: एहसास होना चाहिए । लगभग तीन घंटे तक चली इस संगोष्ठी में सौहार्दपूर्ण वातावरण में सभी ने ब्लॉगिंग के विभिन्न आयामों पर चर्चा की । वर्षांत पर और कई संगोष्ठियों के आयोजन की सूचना भी श्री अजय कुमार झा ने दी ।

27 टिप्‍पणियां:

  1. ये रिलीज अविनाश भाई को ही भेजी गई है ताकि जो भूल चूक हुई हो उसमें सुधार कर आगे प्रेषित कर दें ...क्योंकि जैसा कि अभी अभी भाई राजीव तनेजा जी ने बताया कि श्री प्रेम जन्मेजय व्यंग्यकार हैं और वे कविता नहीं लिखते हैं । आशा है कि इसे अन्यथा नहीं लिया जाएगा । शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया इस रिलीज़ की रील दिखाने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया एवं विस्तृत रिपोर्ट

    उत्तर देंहटाएं
  4. यहां ये भी स्पष्ट कर दूं कि ऊपर की रिपोर्ट में भाई राम बाबू , प्रिय अरूण सी राय जी का नाम छूट गया है क्योंकि जितने भी नाम मैंने लिखे हैं अपनी याद्दाश्त के हिसाब से लिखे हैं । कार्यक्रम में शामिल होने वालों की सूची अविनाश भाई के पास ही है ,इसलिए भूलवश कई नाम छूट गए हो सकते हैं । आशा है कि मित्र मुझे क्षमा करेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  5. रिपोर्ट देने के लिये आभार.............

    उत्तर देंहटाएं
  6. kripa karkae mujhe kewal 'rachna" hi likha karey mae blog jagat mae isii naam sae jaanee jaatee hun report mae sanshodhan kar lae aabahr hoga

    उत्तर देंहटाएं
  7. झाजी की रिपोर्ट, अधूरी सी है। भाई कुछ बड़ा-चढाकर तो लिखते। आखिर जिनके लिए दिल्‍ली दूर है वे भी तो पूरा आनन्‍द ले सके ना।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय रचना जी ,
    आपके आदेशानुसार परिवर्तन कर दिया गया है , मार्गदर्शन करती रहें । शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय अजित गुप्ता जी ,
    ये रिपोर्ट तो है ही नहीं , ये तो बस एक प्रेस रिलीज़ भर है ..जैसे पिक्चर की कास्टिंग होती है न वैसे ही ....रपट तो अभी शुरू होने दीजीए ..कुछ भी नहीं छूटेगा ...मैंने तो मुस्कुराहटें भी सहेज कर रख ली हैं यादों में

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरणीय रचना जी
    ki jagah kewal rachna keh kar sambodhit kiya karey taaki kisi bhi pedastal ko kheech kar neechaye naa gira sakey !!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. हा हा हा जी मैं याद रखूंगा ..मगर कहूंगा रचना जी ही ...हां मिलने पर हैंडशेक कर लूंगा ..नमस्ते/ प्रणाम की जगह ..उम्मीद है कि इतनी इजाजत तो मुझे मिलेगी ही ...:) :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. 40 ब्लॉगर्स एक साथ ... यह संकेत है इस बात का कि वास्तव में आगामी वर्षों में ब्लॉगिंग जनतंत्र की एक ताकत बनकर उभरेगी । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. भैल डन, झा साहब।
    जो दूर थे, उन्हें भी समुचित जानकारी मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बढ़िया प्रेस रिलीज
    वाह, क्या मस्त जमावड़ा होगा।
    बहुत खूब...........ब्लॉगर्स एकता ज़िंदाबाद !

    उत्तर देंहटाएं
  15. शरद भाई
    दिल्‍ली में शरद के आने की आहट के साथ ही कनाडा से भाई समीर लाल जी का आगमन। सब ब्‍लॉगरों का प्रफुल्लित हो गया है मन। आप कब रहे हैं दिल्‍ली के ब्‍लॉगर जंगल में। आपकी प्रतीक्षा है।
    रिपोर्ट सुधार कर नुक्‍कड़ पर लगा दी है, जिसे विज्ञप्ति इत्‍यादि के लिए प्रयोग में लाया जा सकता है।
    नीचे क्लिक तो कीजिए


    साथियों आभार : इंटरनेशनल ब्‍लॉगर सम्‍मेलन - एक रिपोर्ट

    उत्तर देंहटाएं
  16. ब्लॉगर्स एकता ज़िंदाबाद.. अच्छी प्रस्तुति

    हैपी ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  17. झा जी की रिपोर्टिंग अच्छी लगी। बहुत बहुत बधाई। कार्यक्रम में सबसे मिलना सुखद और यादगार रहा। बातें भी अच्छी सुनने-जानने को मिलीं। यह कारवां यूं ही बढ़ता रहे तो बहुत अच्छा हो।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सटीक ... काफी कुछ जानने का मौका मिला ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बढ़िया एवं विस्तृत रिपोर्ट...बहुत कुछ जानने को मिला

    उत्तर देंहटाएं
  20. अजय जी
    प्रेस रिलीज के लिए आभार.
    पढ़ कर अच्छा लगा कि इस कार्यक्रम में दिल्ली एवं आसापस के लगभग चालीस ब्लॉगर्स ने शिरकत की तो वहीं विख्यात मीडिया रिसर्च स्कॉलर श्री सुधीर के नेतृत्व में लगभग पच्चीस मीडिया शिक्षार्थियों ने अपनी सक्रिय भागीदारी की .
    निश्चित तौर पर भाई समीर लाल जी, वाचस्पति जी, आप जैसे लोगों की शिरकत से ब्लॉग जगत को निःसंदेह लाभ होगा. इसके साथ ही मीडिया प्रशिक्षार्थियों का भा ज्ञानवर्धन हुआ होगा.
    - विजय तिवारी " किसलय "

    उत्तर देंहटाएं
  21. सराहनीय प्रस्तुति के लिए धन्यबाद |

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers