इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

बुधवार, 17 नवंबर 2010

मेरा कुछ सामान खो गया है ....तलाशने वाले को मेरी तरफ़ से खुशियों का एक कतरा दिया जाएगा ...




आप सोच रहे होंगे कि मैंने ये कौन सी मुनादी करवा दी ?? क्या करूं जब मेरे लाख कोशिश करने के बाद भी मुझे मेरी ये खोई हुई चीजें नहीं मिल पा रही हैं तो फ़िर आप दोस्त किस काम के जी यदि आप मेरी ये चीज़ें मुझे ढूंढ कर न दे सकें तो । आज सुबह सुबह एक कौआ मुंडेर पर आकर बैठ गया हालांकि अब राजधानी में कौव्वे भी आपको राष्ट्रमंडल खेल आदि जैसे बडे आयोजनों की तरह ही कभी कभी दिखाई देते हैं ।मगर यकायक ही मुझे अपनी एक सबसे प्रिय पक्षी का ध्यान आ गया जिसके साथ मैं बचपन में खूब खेला करता था । जी हां वही छोटी सी शैतान सी चंचल सी अपनी गोरैया ...ओह जाने कितने बरस बीत गए अब तो उसे देखे हुए ...मन दुख और वितृष्णा से भर गया ...मैंने सोचा कि चलो कोई बात नहीं मैना को ही तलाशते हैं , मगर अफ़सोस कि वो भी नहीं दिखी कहीं



इसके बाद सोचा घर से बाहर निकला जाए और आसपास के बाग बगीचों में तितली को ही ढूंढा जाए और देखा जाए कि तितली कितनी बदली है । अजी मिलती तो देख भी लेते ........मगर अफ़सोस कि वो भी कहीं नहीं दिखी । हद है यार मैं थक हार कर वापस घर आ गया । फ़िर जेहन में एक ख्याल कौंधा कि देखूं तो सही कि कौन कौन सी वो चीज़ें थीं जिन्हें देखे मुझे एक अरसा हो गया है






पहला ख्याल आया वही पुराने ट्रिन ट्रिन का उसका भारी सा रिसीवर जब बचपन में हम उठाते थे तो अगर कान के पास लगाते थे तो मुंह के नीचे चला था नीचे वाला गोला और मुंह के पास लगाते थे तो फ़िर कान से बहुत ऊपर ही रह जाता था और बारी बारी से ऊपर नीचे करके फ़ोन किया सुना करते थे । नंबर डायल करते समय वो किर्र किर्र की खास आवाज़ ...ओह अरसा हो गया उसे सुने हुए


हा हा हा अशोका ब्लेड को कौन भूल सकता है भला । उस समय का शायद ही कोई युवक होगा जिसने अशोका ब्लेड को पहली बार अपनी ठुड्डी पर फ़ेरते हुए बिल्कुल राजा अशोक की तरह वो गर्व वाली फ़ीलिंग महसूस न की होगी
हाय वो तांगे में बैठ कर पूरे शहर की सवारी का लुत्फ़ । टुन टुन करके बजती घोडे जी की घंटियों की ध्वनि अब इस वातानुकूलित कार के स्टीरियो से कहीं भली लगती थी जी





ओह क्या क्या याद करूं ...और क्या क्या भूलूं ॥तो ला सकते हैं आप ढूंढ कर मेरे लिए मेरी ये चीज़ें ....देखिए ईनाम पक्का है ...

14 टिप्‍पणियां:

  1. यादों की धरोहर कौन ढूँढ कर ला सकता है?

    उत्तर देंहटाएं
  2. jnaab thode se samaan ke liyen itna bdha inaam aek qtraa khushi aaj ke zmaane men to aek qtraa khushi beshqimti chiz he jo nsib vaalon ko hi mil skti he. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको याद है उस स्‍थान की
    जो अब कार पार्किंग बन चुकी है
    वे सड़कें, वे गलियां
    जहां हम बिछा कर सोया करते थे
    नींद भरपूर बोया करते थे, वे खटियां
    वे चारपाईं
    , सोने से पहले करते थे बतियां
    जब बुझ जाती थीं सभी बत्तियां
    तब जला करती थीं
    झिलमिलाती थीं
    तारों की चमकती चमकत्तियां
    याद तो होगी
    पर लिखते समय भूल गए होगे
    न भी भूले हो
    पर कितना लिखोगे
    कब तक लिखोगे
    धरोहर है बहुत सारी
    सारी कैसे पेश करोगे

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे इनाम में कतरा नहीं
    चाहिए
    टोकरा चाहिए क्‍योंकि मैं खुशियों की
    नहीं करता जमाखोरी
    बांट देता हूं सबमें
    यही तो है मेरी कमजोरी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके लिए तो टोकरा हाजिर है अविनाश भाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे! इन्हें तो मैं भी ढूंढ रहा था, चलिए मिल कर कोशिश करते हैं। पर और भी है बहुत कुछ है जो धीरे-धीरे लोप होता जा रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज तो कमाल हो गया .... आप को पोस्ट
    और
    अविनाश जी कि टीप...

    एक अजीब नास्टेल्जिया पैदा कर रहे हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  8. सोचने पर मजबूर कर रहे हो झा जी :)


    रिन साबुन और निरमा :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. झा साहब, तलाश कर तो मैं ला दूंगा पर अब आप रखोगे कहा ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरे यह क्या किया भाई मुझे ३५ साल पुरानी यादों मैं पहुंचा दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत मुश्किल है इन्हें ढूँढना तो.

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers