इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

बुधवार, 30 नवंबर 2011

चंद पंक्तियां , बिखरी सिमटी सी









कभी बिकते हैं , कभी किसी के खरीददार हो गए हैं ,
संभालो बे इस देश को ,हम तो बस ,बाज़ार हो गए हैं ॥
 


पत्थर का जंगल , बस रहा है ,बहुत बेतरतीब सा ,
बुत सा एक प्रधान मिला ,देश हुआ बदनसीब सा ॥
 
 
 
अबे कित्ते दिनों तक यूं गोलघर में काम नहीं करोगे ,
कभी झांक के देखना आईने में ,वहीं डूब के मरोगे ॥






अबे रुको , हटो बे , हमसे न कहना कि संभलो , आगे मंदी है ,
हम जनता जनार्दन हैं झेल लेंगे , बेशक सियासत की नज़र गंदी है






डेली धमाल से देस का पोलटिस में उठा रे गजब बवाल ,
दो सोटे उसके पीछे , और दो इसके , सबका लालम लाल ॥






आज अचानक शाम को ठंड का एक थपेडा चेहरे से टकराया ,
मैंने पूछा तो , शर्माता सकुचाता ठंड का मौसम बोला , अभी आया अभी आया ॥






बहिन जी :केंद्र में आने पर देंगे 365 दिन रोजगार ,
टीए डीए का चिंता न करें , एक एक ठो हाथी भी सबको देगी सरकार ॥




बहिन जी : राहुल की नींद हाथी ने उडाई है ,
बस इत्ता और बता दो ,हथवा कमाइस जादे कि हथिनी कमाई है ॥






हमारे हवाई अड्डे खाली करे अमेरिका : पाकिस्तान
हम वहां बस अड्डे खोलना चाहते हैं : पाकिस्तान

 
 
 
 
भक्तजनों , संसद में फ़िर से ,कुकुर कटौंज है ज़ारी ,
अईसन जमा के मारा हाय जनता का हाथ बडा रे भारी ॥



5 टिप्‍पणियां:

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers