इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

रविवार, 26 जुलाई 2009

जाने क्यूँ , हर बार वो, इक नया पता देते हैं......





बस्तियां खाली करवाने को,वो,
अक्सर उनमें आग लगा देते हैं.....

उतनी तो दुश्मनी नहीं कि ,कत्ल कर दें मेरा ,
इसलिए वो रोज़ , जहर, बस जरा जरा देते हैं ......

मैंने कब कहा कि, गुनाह को उकसाया उसने ,
वे तो बस मेरे पापों को, थोडी सी हवा देते हैं....

वो जब करते हैं गुजारिश , घर अपने आने की,
जाने क्यूँ, हर बार, इक नया ही पता देते हैं......

मैं ठान लेता हूँ कई बार, अबके नहीं मानूंगा,
नयी अदा से वो, हर बार लुभा लेते हैं.......

जख्मों से अब दर्द नहीं होता, कोई टीस भी नहीं,
पर जाने क्यूँ जख्मों के निशाँ, रुला देते हैं......

जब भी जाता हूँ गाँव अपने, ऐसी होती है खातिर मेरी,
अपने ही घर में , मुझे, मेहमान बना देते हैं......

सिलसिला टूटता नहीं उनपर मेरे विश्वास का,
पुरानी को छोड़ , रोज़ इक नयी कहानी सुना देते हैं....

6 टिप्‍पणियां:

  1. सिलसिला टूटता नहीं उनपर मेरे विश्वास का,
    पुरानी को छोड़ , रोज़ इक नयी कहानी सुना देते हैं....
    ek sundar rachana dil aisa hi hota hai .....dil ke hare har hai dil ke jite jit ............

    उत्तर देंहटाएं
  2. जख्मों से अब दर्द नहीं होता, कोई टीस भी नहीं,
    पर जाने क्यूँ जख्मों के निशाँ, रुला देते हैं......

    जब भी जाता हूँ गाँव अपने, ऐसी होती है खातिर मेरी,
    अपने ही घर में , मुझे, मेहमान बना देते हैं......
    बहुत उम्दा लाइनें हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. namaskaar mitr kya baat hai yaar aap to chhupe rustam nikle mai to hat prbh hun vyang likhe bala insaan itne sundar vyang likh sakta hai uske saath saath itni sundar ye rachna khash kar ye layne
    उतनी तो दुश्मनी नहीं कि ,कत्ल कर दें मेरा ,
    इसलिए वो रोज़ , जहर, बस जरा जरा देते हैं ......
    mai to nat mastak hun mitr
    waah waah waah
    bus shabd hi nahi
    kya kahun
    saadar
    praveen pathik
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब भी जाता हूँ गाँव अपने, ऐसी होती है खातिर मेरी,
    अपने ही घर में , मुझे, मेहमान बना देते हैं......
    बहुत उम्दा लाइनें हैं.

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers