इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

रविवार, 31 मार्च 2013

ठीक है -- नहीं ठीक नहीं है

सब ठीक है



खौफ़नाक है मंज़र क्यूं , आज मेरे शहर का ,
वो कहते हैं , ठीक है , मगर इस देश की हालत ठीक नहीं है ॥


जंगलों में भी कहां दिखती है ऐसी हैवानियत अब,
खुद की नस्ल का शिकार करता , ये आदमजात ठीक नहीं है ॥


हर बार निपटने का वादा और अब न होने देने की बातें ,
हर बार कुछ हो जाने पर यही कहते हो , ये बात ठीक नहीं है ॥


इक तरफ़ पूजते हो माता और देवी कह -मान कर ,
मगर नारी के प्रति अब , तुम्हारे ख्यालात ठीक नहीं है ॥


कैसे कह दूं कि बसर हो रहा है जीवन चैन और सकून से ,
काले दिन भी डराते हैं मन को ,उजली ये रात ठीक नहीं है ॥


क्यूं करूं गैरों से गिले-शिकवे , और उंगली उठाऊं उनपे,
जब पाया है कि बंद कमरों में , अपनों का भी साथ ठीक नहीं है ॥


जो करता रहा है दावा , गरीबों मजलूमों के साथ होने का,
बरसों से भर रहा है जेबों को अपनी , वो "हाथ", ठीक नहीं है ॥


चलता है , जो किश्तों में मिले , ज़ख्मों का कतरा कतरा,
मगर दुखों से बांध दो रिश्ता , रंजो-गम की , बारात ठीक नहीं है ॥


हम निपट लेंगे, सुलट लेंगे, एक आध , तीन चार को भी ,
मगर धूर्तों की टोली, चोरों की पूरी जमात , ठीक नहीं है ॥


इतिहास का सबक सीखना होगा , बडे ही गौर से हाकिम ,
फ़िर किसी अंधे के हाथ हस्तिनापुर को देना , हे तात! ठीक नहीं है ॥


आप सियासती लोग हैं जो भी , खेलना खूब जानते होंगे,
अवाम क्या जाने शह-मात की भाषा , बिछाना यूं शतरंजी बिसात ठीक नहीं है ॥


लडने को गरीबी, बेकसी, बेकारी और बीमारी बहुत है ,
घसीटते रहो , भाषा, धर्म , मज़हब और जात-पात ठीक नहीं है ॥


तुम बढाने को खजाने का वजन , महंगा हर बाज़ार करो बेशक ,
मगर बोझ तले मर जाए आम आदमी ही , गरीब की छाती पर लात ठीक नहीं है ॥

तुम्हारी मजबूरी हम खूब समझते हैं , चुप रहने की , रहो खामोश ही,
मगर हमारे सैनिकों की सिरकटी लाश पर भी न छलकें , ज़ज़्बात ठीक नहीं है 


करो खूब दोस्ती के वादे उनसे , और निभाते चलो टूटते बनते रिश्ते,
हर बार बारूद की खेप , मिलती जो आतंक की सौगात ठीक नहीं है ॥


सोने चांदी की कीमत अब जान से ज्यादा है , मेहबूब मेरे,
यूं सरेआम निकल जाना पहन के जेवरात , ठीक नहीं है ॥ 



ठीक नहीं है .....ठीक नहीं है

6 टिप्‍पणियां:

  1. अजय सर,आज कल के हालात पर सटीक कविता,आप के ब्लॉग को फालो करने बाद भी आपकी पोस्ट मेरे ब्लॉगर डेश बोर्ड पर नहीं आती है,शायद मैं ब्लॉगर की जगह गूगल पर आपको फालो कर रहा हूँ इसी वजह से,अब मैं आपके सभी ब्लॉग को ब्लॉगर पर फालो करूंगा।

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers