इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

रविवार, 2 मार्च 2014

आईने खुद बखुद संवर जाएंगे





किताबों में बनके रहे , सूखे हुए गुलाबों की तरह ,
सिर्फ़ देखना , जो छूने की कोशिश की , टूट के बिखर जाएंगे ॥

सिमटा रहने दे हमें , अपनी यादों के बंद एलबम में ,
जो पलट के देखा तस्वीरों को , अश्क बनके आंखों में उतर जाएंगे॥

एक तू, एक मैं ही नहीं , जिस पर समय ने ढाए सितम ,
तुझे ये लगा ही क्यूं , कि  अबकि वक्त के ये पहिए ठहर जाएंगे ॥

गरीब सो न सका जो फ़ुटपाथ पर , रहा रात इस फ़िक्र में ,
हाकिम ने भेजा संदेशा, नए सपने दिखाने , उसके घर आएंगे ॥

अब तो मौसम हुआ है , सडकों , मैदानों , दालानों का ,
रुत बदलते ही फ़िर टीवी , या बाइस्कोप में ही नज़र आएंगे ॥

कुछ अब भी जद्दोज़हद में है , जांच और परख की ,
मगर कशमकश भी बची है कहां , इधर जाएंगे या उधर जाएंगे ॥

क्यूं कोसते रहें आइनों को , कि जब चेहरे खुद बेइमान हैं ,
पहले हटाया जाए निशानों को तेज़ाब से , आइने खुद बखुद संवर जाएंगे ॥

सुनो सियासत में हंगामा क्यूं है बरपा , ऐसी क्या अलग कयामत होगी,
या बिगडों के साथ वो बिगड जाएंगे , या बिगडे हुए खुद सुधर जाएंगे ॥

हम बेशक बना लें वक्त से तेज़ भागती हुई चमकती लहकती हुई सडकें ,
सोचता हूं ,मौत सी रफ़्तार थामे स्कूटियों पे बैठे ये बच्चे कल किधर जाएंगे  ॥

8 टिप्‍पणियां:

  1. क्यूं कोसते रहें आइनों को , कि जब चेहरे खुद बेइमान हैं ,
    पहले हटाया जाए निशानों को तेज़ाब से , आइने खुद बखुद संवर जाएंगे ॥

    वाह, बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका शुक्रिया और आभार प्रवीण जी

      हटाएं
  2. 'तुझे ये लगा ही क्यूं , कि अबकि वक्त के ये पहिए ठहर जाएंगे '
    - हर युग का यही सच है ,कभी ज़्यादा तीखा कभी कम :बाद में बना-सँवार कर उसे कैसे भी प्रस्तुत कर दिया जाय .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया प्रतिभा जी .....

      हटाएं
  3. सिमटा रहने दे हमें , अपनी यादों के बंद एलबम में ,
    जो पलट के देखा तस्वीरों को , अश्क बनके आंखों में उतर जाएंगे ..

    बहुत खूब ... सच कहा है ... तस्वीरें अक्सर अश्क बन के आँखों में उतर आती हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्नेह बनाए रखिएगा दिगंबर जी , बहुत बहुत शुक्रिया

      हटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers