इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

गुरुवार, 7 अक्तूबर 2010

दैनिक विराट वैभव (दिल्ली ) में प्रकाशित मेरा एक आलेख ...









आलेख को पढने के लिए उस पर चटका लगा दें , छवि बडी होकर अलग खिडकी में खुल जाएगी

2 टिप्‍पणियां:

  1. ... पुराने खजाने से निकलते हुये हीरे-ज्वाहारात, बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ज़रूरी विषय । मुझे कुमार विकल की एक कविता याद आई - यह जो सड़क पर खून बह रहा है / इसे सूंघकर देखो / यह हिन्दू का है या मुसलमान का / सिख का या ईसाइ का / किसी बहन का या भाई का / सड़क पर पड़े टिफिन कैरियर से जो रोटी की गन्ध आ रही है ? वह किस जाति की है " यह एक दुर्घटना का दृश्य है ।

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers