इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

सोमवार, 17 जुलाई 2017

चंद कतरे , लिखे अनलिखे से

















11 टिप्‍पणियां:

  1. वाआआआआह.... बहुत खूब अजय भाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "थोड़ा कहा ... बहुत समझना - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बुलेटिन टीम का शुक्रिया और आभार

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. प्रतिक्रिया के लिए आपका आभार और शुक्रिया परमेश्वरी जी

      हटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers