इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

मंगलवार, 16 जून 2009

आखिरकार मुझे भी मिली अलेक्सा की रैंकिंग



अभी पिछले दिनों जब पढ़ा की कुछ चिट्ठों को अलेक्सा की सर्वोच्च रैंकिंग मिली है ...मन खुशी से बाग़ बाग़ हो गया..कमाल है इतनी इज्ज़त मिल रही है हमारी हिंदी ब्लॉग्गिंग को....ये अलग बात है की इसके बावजूद हम लोग आपस में राजनेताओं की तरह पता नहीं कौन कौन सा गुमान पाले एक दुसरे से भीड़ जाते हैं...लगते हैं अपनी खुन्नस निकालने...खैर....ये तो ब्लॉग्गिंग का पैदायशी चरित्र है......तो जैसे ही हिंदी ब्लोग्स को अलेक्सा की रैंकिंग की खबर मिली हमने उसी वक्त तय कर लिया ..की अब तो चाहे जो हो...हम भी अलेक्सा से ये रैंकिंग ले कर रहेंगे....मगर ये होता कैसे....अजी दो साल तो हमें ये पता करने में लग गए की ये हिंदी में टिप्प्न्नी कैसे करते हैं...इतनी काबलियत में तो अलेक्सा की रैंकिंग मिलने से रही ..क्या करें..

अरे अनुभवी मित्र चिटठा सिंग कब काम आते..सो सोचा उन्ही से कोई उपाय पूछा जाए......यार तुम अलेक्सा के बारे में कुछ जानते हो..मैं उसकी रैंकिंग लेना चाहता हूँ..
चिटठा थोडा हैरान परेशान था ," यार नाम से तो कोई अंग्रेज महिला मालूम पड़ती है...पर तू क्यूँ पूछ रहा है..क्या भाभी को पता है ....अबे क्या करने जा रहा है...........?

अरे नहीं नहीं यार चिट्ठे..धीरे बोल वैसा कुछ नहीं है.....मैं जो ब्लॉग्गिंग करता हूँ न ...सुना है की उसमें ये अल्सा कोई रैंकिंग वैगेरह देती है....यदि दे दे तो समझो जी आप तो छा गए......."

बेटा कहीं इस छाने के चक्कर में ऐसा न हो भाभी तुझे खा जाए,..भाई तेरी मर्जी..अच्छा तू एक काम कर चाणक्य पूरी वाले इलाके में ढूंढ उसे...कई सारी एम्बैसी हैं वहाँ ..और बहुत से अंग्रेज देखें हैं मैंने घुमते हुए.

मैंने समय खोटी करना ठीक नहीं समझा ..बड़ी ही मशक्कत के बाद पता चला की तुम्बकतु की एम्बसी में एक अलेक्सा दिकोस्ता नाम की युवती काम करती हैं..मैं उससे मिलने के लिए जाते हुए सोच रहा था ...कमाल है यार तुम्बक्तु की किसी महिला को हमारे चिट्ठों में इतनी दिलचस्पी और उसकी रैंकिंग को लेकर इतना बवाल ...इतना उछाल ..कमाल है.

जी मैं भी रैंकिंग लेने आया हूँ ..देखिये इससे पहले की आप हाँ या न करें....मैं आपको अपनी काबिलियत के बारे में बताता हूँ.मैं पिछले अब वर्षों से इस मगजमारी के काम में बेरोजगार हूँ........(ये नहीं बताया की कितनी पोस्टें लिखी हैं..क्या पता रैंकिंग ही न मिलती ) जी अब तो तिप्प्न्नियाँ भी करने लगा हूँ.......कभी कभी किसी गंभीर मुद्दे पर भी लिखता हूँ.....पहले मोहल्ले से जुडा था अब वहाँ से निकला हूँ तो नुक्कड़ पर खडा हो गया हूँ.....और सुनिए...इसी हफ्ते मुझे ताऊ जी की मेरिट लिस्ट में भी स्थान मिला है ..देखिये मैं कोई बड़ी रैंकिंग नहीं मांग रहा हूँ ..कोई भी छोटी मोटी ....सस्ती सी.......

मुझे नहीं पता की अलेक्सा ने क्या समझा क्या नहीं समझा ..मगर थोड़ी देर बाद उसने मुझे बड़ा ही अजीब सा नंबर दिया

नम्बर .?@#$%^७६५४३*&($#@!?><+९८०००७६५ ..मैं घबरा गया..जवाब मिला ये चाईनीज़ नंबर है आजकल चाईनीज से सस्ता कुछ भी नहीं है..और हाँ तुम्हारे ब्लॉग्गिंग शोलिग्गिंग का पता नहीं ये हमारे यहाँ खुल रहे लेस्बियन क्लब की माम्बर्शिप का नम्बर है....रख लो इससे भी तुम्हारी रैंकिंग मिलेगी...

मैं सर पर पाँव रख कर भाग लिया........

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब।

    वैसे आपकी वर्तमान अलेक्‍सा रैंकिंग है 10581780
    लगे रहें।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढिया लिखा।एकदम धांसू।अपुन को भी पता नही है एल्सा का,खोजना पड़ेगा उसको। और अपुन को तो बीबी का भी डर नही है क्योंकि अपने पास वो भी नही है। हा हा हा हा॥ये पोस्ट बड़ी है मस्त-मस्त्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. jab ranking ke chakkar mein pad hi gaye hai to rakh lijiye kabhi to kaam aayega hi ;)

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे बाबा जो मिले मुफ़त मै लेलो ना....:)अरे क्लब की माम्बर्शिप मुफ़त मै मिल रही है... ओर वो भी विदेशी:)
    मजा आ गया , बहुत धांसू पोस्ट.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. काफी अच्छा व्यंग्य किया है आपने. वैसे क्या एलेक्सा ब्लॉग को भी रेटिंग देने लगा है?

    उत्तर देंहटाएं
  6. Wah! Majedar likha apne...padhkar achha laga.
    मेरे ब्लॉग "शब्द-शिखर" पर भी एक नजर डालें तथा पढें 'ईव-टीजिंग और ड्रेस कोड'' एवं अपनी राय दें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. bhaaii hmen bhi aleksaa ki raiking dilaa do , wideshee ho bto bhi chlegee

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छा व्यग्य लेख
    तरक्की करोगे

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छा लिखा आपने,
    कुछ भी हो चर्चा मे तो हम सब है ही,
    हर चर्चा से आगे अब ब्लॉग और ब्लॉगर्स की बात होने लगी है,
    और बड़े बड़े लोगो की नज़र भी इधर ही घूमने लगी है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. लेस्बियन क्लब की माम्बर्शिप ?? yehi din dekhna reh gayaa thaa... :D

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! बोले तो एकदम मस्त है!

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers