इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

रविवार, 20 दिसंबर 2009

वैश्विक आतंकवाद की बढ़ती चुनौती (नई दुनिया में प्रकाशित एक आलेख )







नई दुनिया में प्रकाशित एक आलेख (आलेख को पढने के लिए इस पे चटका लगाएं )

7 टिप्‍पणियां:

  1. नई दुनिया में कलम घसीटने के लिए बधाई हो।

    अहिंसा का सही अर्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. पूरा लेख पढ़ लिया जी। सच कहा आप ने - मुख्य समस्या तो इनको मिलते धन की है। चाहे साम्राज्यवाद हो या ज़िहादी जुनूँ - इनका पोषण और सम्वर्धन इन्हीं के पैसों से हुआ है। अब तो बात बहुत आगे बढ़ चुकी है।
    जाने हल मिलेगा भी कि नहीं?

    उत्तर देंहटाएं
  3. झा साहब! आपके लिए यह बेसक रद्दी की टोकरी हो,लेकिन हमें तो यहां बडे काम की चीजें मिल रही हें.रविवार के दिन,दरियागंज के पटरी पर लगने वाले किताबों के कबाडी बाजार में,कभी-कभी बडे काम की चीजें मिल जाती हे.

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers