इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

मंगलवार, 21 सितंबर 2010

खेलों का भविष्य : भविष्य से खिलवाड (दैनिक विराट वैभव , दिल्ली में प्रकाशित मेरा एक आलेख )


आलेख को बडा करके पढने के लिए उस पर चटका लगा दें

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा आलेख है ...हार्दिक बधाई
    यहाँ भी पधारे
    विरक्ति पथ

    उत्तर देंहटाएं
  2. विविध विषयों पर आपको लिखता देख कर अच्छा लग रहा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खेल पर भी बेहतरीन आलेख लिखा आपने.. हरफनमौला हैं आप..

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रभु की यही कृपा होगी खेल बस हो जाए।

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers