इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

गुरुवार, 23 सितंबर 2010

शॉपिंग मॉल की हसीन शाम : ( दैनिक ट्रिब्यून में प्रकाशित मेरा एक व्यंग्य )




व्यंग्य को पढने के लिए उस पर चटका लगा दें , और मजे से पढें ............






4 टिप्‍पणियां:

  1. ाजय जी स्पष्ट दिखाई नही दे रहा इसे अपने ब्लाग पर लगायें। अब बुढापे मे आँखें कहाँ इतना काम करती हैं। बधाई इसके दैनिक ट्रिब्यून मे छपने के लिये। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर व्यंग जी, मजा आ गया.लेकिन बताया नही कोन से माल मे गये थे आप:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब लगा कि पक्के व्यंग्यकार हैं ।

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers