इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

मंगलवार, 28 सितंबर 2010

हाशिए पर तलाकशुदा महिलाएं : ( साप्ताहिक , गांडीव , वाराणसी में प्रकाशित मेरा एक आलेख )


( आलेख को पढने के लिए उस पर चटका लगा दें )



4 टिप्‍पणियां:

  1. ajay bhaayi aap to vidhi ke gyaata ho hashiye pr tlaaq shudaa mhilaaon ke liyen bhut kuch kiyaa jaa rha he or kiya ja sktaa he inke liyen bhut bhut suvidhaayen or yojnaayen hen to chlo in tlaaq shudaa mhilaaon ko haashiye se baahr nikaalne ki dishaa men miljul kr kaam kren bhut ahchi smsyaa nye andaaz men uthaayi he . akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमे तो पढने मे पढने मै कठिनाई हो रही है, दोवारा से ट्राई करेगे. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी भी कहीं भी.. किसी भी विषय पर कुछ भी लिखवा लो हाँ.. ये हैं हमारे भाई अजय कुमार झा.. बधाई भैया :)

    उत्तर देंहटाएं

  4. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers