इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2010

खुशियों की खुरचन

कोशिश तो,
हमने भी की,
अपनी झोलियाँ,
भरने की,
किस्मत अपनी,
कि हर बार,
खुशियों की,
खुरचन ही मिली।

जब कर लिए,
सारे प्रयास,
और ढूंढ लिए,
कई प्रश्नों के,
उत्तर भी,
हर जवाब से,
इक नयी,
उलझन ही मिली॥

चाहा की तुम्हें,
रुसवा करके,
सिला दूँ, तुम्हें,
तुम्हारी बेवफाई का,
तुम्हें दी ,
हर चोट से,
अपने भीतर इक,
तड़पन सी मिली॥

मैं मानता था,
अपने अन्दर,
तुम्हारे वजूद को,
मगर न जाने क्यों,
हर बार , बहुत,
दूर तुम्हारी,
धडकन ही मिली ॥

10 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ी सीधी और सरल भाषा में काफी बड़ी बात की आपने... एक अतुकांत कविता की यही खासियत है...
    जय हिंद... जय बुंदेलखंड

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर जवाब से,
    इक नयी,
    उलझन ही मिली॥
    उलझ कर उलझनों से उलझन सुलझाना होगा
    दिल बेशक रोये मगर हमको तो गाना होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. देखें के अब नसीब से अपने क्या मिले,
    अब तक तो जो भी दोस्त मिले, बेवफ़ा मिले...

    खुशियों की खुरचन...झा जी आपको पता नहीं हर खुशी की बात पर खुशदीप का पेटेंट हैं...आपने ये शब्द इस्तेमाल किया, आप खुद ही क़ानून के जानकार हैं, इसलिए मेरी तरफ़ से खुद ही अपने को नोटिस भेजने के लिए तैयार कीजिए...समझ गए न...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  4. चाहा की तुम्हें,
    रुसवा करके,
    सिला दूँ, तुम्हें,
    तुम्हारी बेवफाई का,
    तुम्हें दी ,
    हर चोट से,
    अपने भीतर इक,
    तड़पन सी मिली॥
    हर अहिंसावादी के साथ यही होता है। आपकी बेबाकी तथा साफगोई का बयान प्रेरक है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. किस्मत अपनी,
    कि हर बार,
    खुशियों की,
    खुरचन ही मिली
    अजय जी फिर भी शुक्र करें खुशियों की एक खुर्चन तो मिली कई बार वो भी नसीब नही होती। बहुत अच्छी लगी आपका कविता । शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. aaj to gazab ki rachna likhi hai..........dil ko gahre tak chhoo gayi.

    उत्तर देंहटाएं
  7. युवा लोग निराशा की बात करते अच्‍छे नहीं लगते। जोश के साथ आशा का संचार करो, हम जैसे उम्रदराज लोगों में।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अजय जी फिर भी शुक्र करें खुशियों की एक खुर्चन तो मिली कई बार वो भी नसीब नही होती। बहुत अच्छी लगी आपका कविता । शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers