इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

शनिवार, 20 फ़रवरी 2010

तेरे बिना.........


तेरे बिना,
मेरे घर को,
रोशन नहीं,
करतें हैं,
दिन के,
उजाले भी॥

तेरे बिना,
मुझ से,
नहीं संभलती,
खुशियाँ,
मेरे संभाले भी॥

तेरे बिना,
कहाँ सुरूर,
दे पाते हैं,
पैमाने और,
प्याले भी॥

तेरे बिना,
मुमकिन नहीं था,
कि कहलाते , कभी,
बेवफा भी,
दिलवाले भी॥

तेरे बिना,
कहाँ दस्तक
देती है खुशी,
कहाँ टलते हैं,
गम, मुझ अकेले ,
के टाले भी..

तेरे बिना,
पानी का सोता,
प्यास नहीं बुझाता,
भूख नहीं मिटाते,
रोटी के,
निवाले भी॥

मुझे मंज़ूर है,
उससे ,
बगावत भी ,
तेरे बिना,
नहीं करूंगा,
मैं ख़ुद को,
खुदा के,
हवाले भी॥

हाँ सच, तेरे बिना मेरा वजूद ही कहीं नहीं है.........................

12 टिप्‍पणियां:

  1. तेरे बिना,
    कहाँ सुरूर,
    दे पाते हैं,
    पैमाने और,
    प्याले भी॥

    बहुत सुंदर पंक्तियों के साथ.... बहुत सुंदर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  2. तेरे बिना कविता
    तेरे बिना प्यार
    तेरे बिना स्रिन्गार
    कुछ भी नही भाता
    किससे खेलू होली
    कान्हा तेरे बिना

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे मंज़ूर है,
    उससे ,
    बगावत भी ,
    तेरे बिना,
    नहीं करूंगा,
    मैं ख़ुद को,
    खुदा के,
    हवाले भी॥
    वाह! क्या बात कही....बेहतरीन रचना!
    सादर
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाँ सच, तेरे बिना मेरा वजूद ही कहीं नहीं है.....
    वजूद जब वजूद से मिलता है तो एक नया वजूद बनता है.
    और फिर --
    यह रचना जन्म लेती है
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाँ सच, तेरे बिना मेरा वजूद ही कहीं नहीं है, बिलकुल सही कहा आप ने... बहुत ही सुंदर रचना कही आप ने.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. वजूद जब वजूद से मिलता है तो एक नया वजूद बनता है.
    और फिर --
    यह रचना जन्म लेती है
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह..........बहुत ही बढिया बात कही है.......गज़ब की प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  8. लाजवाब पंक्तियाँ
    बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिल को छू रही है यह कविता .......... सत्य की बेहद करीब है ..........

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers