इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

शुक्रवार, 7 मई 2010

"ब्लोग बातें" का दूसरा अंक प्रकाशित होकर आया



जैसा कि आप सबको सूचित कर ही दिया था कि "ब्लोग बातें "नामक स्तंभ को शुरू करने जा रहा हूं ताकि ब्लोग्गिंग में चल रही बातों को और भी विस्तार दिया जा सके । उनकी पहुंच प्रिंट के आम जनमानस तक भी हो । उन्हें भी पता चले कि हिंदी ब्लोग्गिंग में सिर्फ़ लफ़्फ़ाजी नहीं की जा रही है । वर्तमान योजना के तहत इसमें किसी भी सामयिक विषय पर सप्ताह भर में लिखी गई पोस्टों में से कुछ चुनिंदा का जिक्र किया जा रहा है । एक प्रयोग के तौर पर इसे शुरू किया गया था , और मुझे खुशी है इस बात की ,कि इसे अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है । एक एक अंक दस से पंद्रह स्थानों पर छप रहा है । आगे के लिए ये योजना है कि ऐसा ही एक विशेष स्तंभ " ब्लोग बतंगड" के नाम से शुरू किया जाए जो सिर्फ़ एक ब्लोग पर आधारित होगा उसकी खूबियों को और ब्लोग्गर का परिचय करवाता हुआ । आप सबको प्रयास पसंद आएगा इसकी उम्मीद है मुझे । अब ये अंक देखिए , समाचार पत्र अपनी अपनी पसंद के हिसाब से इसे नाम देकर छाप रहे हैं । ये पंजाब (पटियाला )से प्रकाशित पत्र पायलट है जिसने इसे "ब्लोग हलचल " के नाम से प्रकाशित किया है

चित्र पर क्लिक करके जो छवि खुले उसे चटका कर पढ सकते हैं ॥

11 टिप्‍पणियां:

  1. अरे वाह!...आप तो अपने आलेखों के जरिए हम ब्लागरों को प्रिंट मीडिया में स्थान दिलवा रहे हैं...

    बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  2. झा जी
    बधाई हो प्रयास बढ़िया है

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लाग्स की चर्चा प्रिंट मीडिया में होना इस की लोकप्रियता में वृद्धि करेगा। पाठकों की संख्या को बढ़ाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Hum honge kaamyaab .. hum honge kaamyaab hum honge kaamyaab ek din...man me hai vishwaas.. ho ho ho... poora hai vishwaas.. hum honge kaamyaab ek din.. sachchi Ajay bhaiya.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. नये नये आयाम जुड़ रहे हैं ,ब्लागजगत में

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज से मैं रद्दी की टोकड़ी को फालो कर रहा हूँ ...क्या अजय भाई .... कोई अच्छा नाम रख लो यार :-)
    ब्लाग बातें लगता है बहुत समय ले रहा होगा अन्यथा इतना करना कैसे संभव है ?

    उत्तर देंहटाएं
  7. चर्चे बठिंडा तक... वाह जनाब वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे वाह्………।बहुत ही सराहनीय प्रयास है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक प्रयास अजय जी।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers