इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

शनिवार, 6 मार्च 2010

बेटियां क्यों पैदा होती हैं .....???

बहुत पहले ये पोस्ट लिखी थी ...जाने आज फ़िर क्यों इसे लिखने पढने और पढाने का मन किया ........................
आप सोचेंगे कि ये क्या सवाल हुआ .फ़िर तो कोई कहेगा कि क्यों निकलता है सूरज और क्यों होती है रात, क्योंबदलते हैं दिन और महीने। हाँ , हाँ हो सकता है कि आप को ये इसी तरह का एक बेतुका सवाल लगे मगर मैं ये बातयहाँ इसलिए उठा रहा हूँ क्योंकि पिछले कुछ समय से ना सिर्फ़ इस ब्लॉगजगत पर बल्कि विभिन्न माध्यमों मेंऔर बहुत से लोगों , विशेषकर महिलाओं द्वारा , ये सवाल खूब उठाया गया है, बहुत सारे तर्क-वितर्क , आकलन, विश्लेषण, आरोप खासकर पुरुषवादी मानसिकता और समाज पर हर बार उंगली उठाई जाती रही है। और कमोबेश ये कहीं ना कहीं सच तो हैं ही, मगर और भी कुछ बातें हैं जो शायद सामने नहीं आती , या कि उन्हें सामने लाया नहीं जाता।

कल यूं ही किसी ने किसी से पूछ लिया , यार ये बेटियाँ पैदा ही क्यों होती हैं, काफी देर के बहस के बाद कुछ उत्तर ऐसे मिले :-

--बेटियाँ इसलिए पैदा होती हैं, ताकि उसे पैदा करने वाली माँ को उसके पापबोध का एहसास कराया जा सके। उसेबताया जा सके कि ये उसके सभी गुनाहों की या कहें कि ख़ुद औरत के रूप में पैदा होने की सबसे बड़ी सजा है जिसकी कोई माफी नहीं है॥

बेटियाँ इसलिए पैदा होती हैं ताकि बेटों को एहसास दिलाया जा सके कि देखो इनकी तुलना में तुम्हारा महत्व हमेशा ज्यादा रहा है और रहेगा॥

बेटियाँ इसलिए भी पैदा होती हैं ताकि समाज को कोई मिल सके , कोसने के लिए, पीटने के लिए, नोचने के लिए, सहने के लिए...

बेटियाँ , और बेटियों के बाद फ़िर बेटियाँ इसलिए पैदा होती हैं कि , काश किसी बार बेटा पैदा हो जाए .....

उत्तर मिल ही रहे थे कि बीच में किसी ने टोक दिया , क्यों फालतू की मगजमारी कर रहे हो तुम्हें नहीं पता अब बेटियाँ कहाँ पैदा हो रही हैं, उन्हें तो गर्भ में ही मारा जा रहा है।

दूसरे ने कहा , तुम हर बार ये बात उठाते हो और वही पुराना राग अलापते हो मगर किसी बार ये नहीं कहते कि बेटियोंके जन्म पर सबसे ज्यादा दुःख और अफ़सोस कौन जताता है, माँ, सास , चाची , मामी और ये कन्या भ्रूण हत्या करने वाली डाक्टरनियों के अन्दर क्या किसी पुरूष का दिल और दिमाग लगा रहता है ये बहस चलती ही जारही है और आगे भी चलती रहेगी। बेटियाँ पैदा होती रहे इसी में इस संसार का अस्तित्व बचा है अन्यथा कहीं कुछ भी नहीं बचेगा.....


14 टिप्‍पणियां:

  1. बेटियाँ , और बेटियों के बाद फ़िर बेटियाँ इसलिए पैदा होती हैं कि , काश किसी बार बेटा पैदा हो जाए .....



    यही होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेटियाँ पैदा होती रहे इसी में इस संसार का अस्तित्व बचा है अन्यथा कहीं कुछ भी नहीं बचेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  3. Betiyaan kyon paida hoti hain??? ye sawal hi apne aapme bahut tedha hai bhaia.. aksar bete paida kiye jate hain.. lekin bete paida karne kee koshish me dhokhe se betiyan paida ho jati hai.. kanya bhroon hatya ke bhayanak sach par likhi gayee ek khoobsoorat rachna hai jaldi hi padhaaunga aapko..
    Jai Hind...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे तो बेटियों से प्‍यार है और प्‍यार ही रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेटियाँ ही हैं जो दुनिया को थामे हुए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे कल की बेटी आज की बहिन आज की मां है, बेटिया इस लिये पेदा होती है कि यह इस दुनिया को नया जीवन दे

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेटियाँ पैदा होती रहे इसी में इस संसार का अस्तित्व बचा है अन्यथा कहीं कुछ भी नहीं बचेगा.....


    सच्ची बात ,सार्थक लेख

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेटियाँ पैदा होती रहे इसी में इस संसार का अस्तित्व बचा है अन्यथा कहीं कुछ भी नहीं बचेगा.....

    यही सार है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. beti hi to maa ban kar janni banti hai purush ki bhi sirf itni si baat samajh le har koi to sara fasaad na mit jaye.........samajh aa jaye ki janni bina kisi ka koi astitva hi nhi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेटियाँ , और बेटियों के बाद फ़िर बेटियाँ इसलिए पैदा होती हैं कि
    ये दुर्गा है, काली है, जननी है,
    इस धरती पर नित नया जीवन देती है
    बेटों से थक कर बेटियां साथ देती है
    वात्सल्य,करुना....
    सच्ची नि:स्वार्थ सेवा......
    लेकिन अफ़सोस...समझ अंतिम समय में ही माँ-बाप को आती है....

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह कृष्ण मुरारी जी ,, आपकी टिप्पणी ने तो मेरी पोस्ट में कही गई बात का वजन ही बहुत बढा दिया है । बहुत बहुत आभार और धन्यवाद आपका
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  12. परिवार में सबको, सबसे अधिक प्यार करने वाली सिर्फ बेटी होती है , मगर भिन्न भिन्न कारण बता कर समाज उसके आगे जन्म से ही रोड़े पैदा करता रहता है ! और यह बेचारी पूरे जीवन अपने आँख में आंसू लिए अपने घोंसले के निर्माण में लगी रहती है ! और क्या कहूं .

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेटियाँ ही हैं जो दुनिया को थामे हुए हैं।

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers