इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

सोमवार, 18 जनवरी 2010

हर कोई ब्लॉग सजाने लगा है !!!!

हवाएं बदल रही हैं ,
रुख अपना,या कि,
मौसम का ही
मिज़ाज,गरमाने लगा है॥

जिन्हें कोफ्त होती थी,
हमारे पसीने की बू से,
हमें अब गले लगाते उन्हें,
इत्र का मजा आने लगा है ॥

गुंडों को कब डर था,
सजा पाने, जेल जाने का,
हाँ, चुनाव न लड़ पाने का,
दुःख , उन्हें भी सताने लगा है॥

कहीं भय हो, कहीं जय हो ,
बेशक अलग सबकी लय हो,
झूम के, घूम के, हर कोई,
गीत एक ही गाने लगा है॥

हर कोई दर्दे हाल पूछता है ,
सबको सरोकार है मेरी मुश्किलों से,
जिसने दिए जख्म अब तक,
अब वही उन्हें सहलाने लगा है॥

वो और था ज़माना हमारा,
कि आए , और लिख कर चल दिए,
अब कोई हमसा अनाडी कहाँ हैं,
हर कोई ब्लॉग सजाने लगा है॥

सुना है छापा पडेगा , इनकम टैक्स का,
अपने किसी ब्लॉगर के यहाँ भी,
लगता है ख़बर फ़ैल गयी है कि,
अब हिन्दी ब्लॉगर भी कमाने लगा है।


तो भाई लोगों जो जो मोटा कमा रहे हो, सब तैयार हो जाओ। अपना क्या है अपनी तो रद्दी की टोकरी है जिसमें कभी भी कुछ भी , ये देहाती बाबु कहते रहते है। हाँ छापा पड़े तो बताना जरूर, अजी हमसे कैसी शर्म .

16 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग वही जो टिप्पणकर्ता वाले को भाये
    तो कौन न अपने ब्लॉग सजाये

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारा सजना भी क्या सजना
    जब आएंगे सजना होगा सजना

    उत्तर देंहटाएं
  3. जोरदार रचना सचमुच ,बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ज़ोरदार रचना .... अब मुझे भी टेम्प्लेट चेंज करना पड़ेगा....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुना है छापा पडेगा , इनकम टैक्स का,
    अपने किसी ब्लॉगर के यहाँ भी,
    लगता है ख़बर फ़ैल गयी है कि,
    अब हिन्दी ब्लॉगर भी कमाने लगा है।


    -हाय!! ऐसा नसीब जागे...:)

    उत्तर देंहटाएं
  6. ब्‍लाग को चाहे जितना भी हम सजा ले, लेकिन उसे पढ़ने वाले तो गिने-चुने ही मिलते हैं। कमाई हो ना हो, बस प्रेम मिल जाए शायद हर ब्‍लागर की यही चाहत रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. har koi darde haal puchchta hai...

    janaab aapki kalam me tej hai.us tej ka asar aapke blog par bhi dikhta hai.aapka chmakta hua blog...

    chmakna har aur chmkana to har koi chahataa hai, koi blog par kah kar khush ho jata hai.khush hone ke is naye raaste se kalam ke naye sipahi bhi apne aap ko logo ke saath baatna chahate hain.

    har koi sirf darde haal puchchta hi nahi batana bhi chahata hai...

    jara sun ke dekhiye jarur maja aayega.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुना है छापा पडेगा , इनकम टैक्स का,

    वो दिन आए तो!

    उत्तर देंहटाएं
  9. भैया अपने इधर तो अभी ठंड पड रही है .. सो पढकर गरमी का अहसास हुआ ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढिया रचना!!
    चिट्ठाकारों पर भी कभी तो लक्ष्मी की कृ्पा होगी :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुना है छापा पडेगा , इनकम टैक्स का,
    अपने किसी ब्लॉगर के यहाँ भी,
    लगता है ख़बर फ़ैल गयी है कि,
    अब हिन्दी ब्लॉगर भी कमाने लगा है।

    Meree kamaai to kuch bhee nahee hai :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. जिन्हें कोफ्त होती थी,
    हमारे पसीने की बू से,
    हमें अब गले लगाते उन्हें,
    इत्र का मजा आने लगा है ॥

    जोरदार रचना बधाई
    krantidut.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूब लिखा आपने. टोकरी मे से निकली हमेशा की तरह एक अच्छी रचना.

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers