इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

प्रचार खिडकी

शुक्रवार, 29 जनवरी 2010

भीड़ से भरी ये दुनिया,
फ़िर भी है जल्दी में दुनिया,
बेचैनी सी छाई ,
संसार में है,
मैं क्यों रहूँ,
परेशान,
कि जानता हूँ,
आज हर आदमी,
कतार में है॥

कोई खुशी -गम के,
कोई सुख-दुःख,
कोई लड़ रहा है,
जिंदगी से,
कोई मौत के,
इंतज़ार में है॥

कोई धारा के बीच,
कोई तूफानों में,
किसी को मिला,
मांझी का साथ,
किसी के सिर्फ़,
पतवार है हाथ,
सच है तो इतना,
हर कोई मंझधार में है॥

सबकी सीरत एक सी,
और सूरत पे,
अलग-अलग,
चढा हुआ नकाब है,
किसी एक की बात,
क्यों करें, जब,
पूरी कौम ही ख़राब है।
फर्क है तो ,
सिर्फ़ इतना कि,
कोई विपक्ष में है बैठा,
कोई सरकार में है॥

हर कोई आज किसी न किसी कतार में है , क्यों है न ????

10 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन की सच्चाई को सच साबित करती एक बेहतरीन रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाई आज लोगों की भीड़ इस कदर बढ़ गई है की बिना कतार के कहाँ काम चलाने वाला...दमदार रचना..बढ़िया लगी...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस रचना को पढ़ अपुन में भी कविता के किटाणु कुलकुलबुलाने लगे हैं...पेड़-पौधे....नदी-नाले सब भाने लगे हैं
    सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बेहतरीन रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच्चाई को उकेरती बेहद उम्दा रचना लगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के समाज पर सटीक है यह रचना, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. लगता है कि कहना बहुत कुछ चाहते हो लेकिन कह नही पा रहे हो

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं

टोकरी में जो भी होता है...उसे उडेलता रहता हूँ..मगर उसे यहाँ उडेलने के बाद उम्मीद रहती है कि....आपकी अनमोल टिप्पणियों से उसे भर ही लूँगा...मेरी उम्मीद ठीक है न.....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers